PM Solar Pump Yojana 2022: आवेदन शुरू | पहले आओ – पहले पाओ

PM Solar Pump Yojana 2022: केंद्र और राज्य सरकारों ने किसानों की मदद के लिए कई योजनाओं को विकसित किआ हैं। इन्हीं में से एक है जिसका नाम प्रधानमंत्री कुसुम सोलर पंप योजना 2022 (Pradhan Mantri Kusum Solar Pump Yojana)। इस योजना के माध्यम से सरकार किसानों को सोलर वाटर पंप लगाने के लिए सब्सिडी देती है। ऐसे में सोलर पंप को स्थापित करने के लिए केवल 20% से 30% की आवश्यकता होती है।

PM Solar Pump Yojana

PM Solar Pump Yojana 2022

देश के बढ़ते प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन के खतरे को देखते हुए सरकार सोलर सेक्टर को बढ़ावा दे रही है। यह एक सरकारी प्रयास है, और आम लोगों को इस योजना से जोड़कर वे पैसा कमाने का एक बड़ा अवसर प्रदान कर सकते हैं। PM KUSUM SCHEME को सरकार द्वारा 2019 में लॉन्च किया गया है।

Key Highlights of PM Kusum Yojana 2022

Scheme name PM Kusum Yojana
Started by Ministry of New and Renewable Energy (MNRE), Government of India
Objective Income growth of farmers
Beneficiaries Farmers of the country
Started in the year 2019
Official website Click Here

PM Solar Pump Yojana: उद्देश्य

  • प्रधानमंत्री कुसुम योजना का मुख्य लक्ष्य भारत के प्रत्येक किसान को नवीनतम तकनीक प्रदान करना है।
  • कृषि क्षेत्र में डी-डीजलीकृत सिंचाई प्रणाली से किसानों को परिचित कराना।
  • सौर पंप किसानों को अधिक कुशलता से काम करने और पर्यावरण के अनुकूल सिंचाई प्रणाली का उपयोग करने में सक्षम बनाएंगे क्योंकि सौर पंप सुरक्षित ऊर्जा उत्पन्न करेंगे।
  • पंप सेट में एक ऊर्जा ग्रिड होता है जो डीजल चालित पंपों की तुलना में अधिक ऊर्जा उत्पन्न करता है।
  • किसान अतिरिक्त बिजली पैदा कर सीधे सरकार को बेच सकेंगे और अपनी आय बढ़ा सकेंगे।

Pradhan Mantri Kusum Yojana की विशेषताएं

  • घटक A – कुल 10GV ग्रिड कनेक्शन की स्थापना, स्टिल्ट-माउंटेड विकेन्द्रीकृत सौर ऊर्जा संयंत्र और अन्य नवीकरणीय ऊर्जा आधारित बिजली संयंत्र। प्रत्येक पौधे का आकार 500 kW से 2 mV तक भिन्न होता है।
  • घटक B – 7.5HP तक की एकल क्षमता और 1.75 लाख रुपये के स्टैंड-अलोन सोलर पंप की स्थापना।
  • घटक C – सोलारिस 1 मिलियन 7.5HP क्षमता के ग्रिड से जुड़े कृषि पंपों के लिए वित्तीय सहायता।

सरकार 60% सब्सिडी देती है

PM Solar Pump Yojana 2022 के माध्यम से सरकार किसानों को सोलर पैनल लगाने के लिए लगभग 60% सब्सिडी प्रदान करती है। वहीं, बैंक 30% ऋण प्रदान करता है। वहीं, कुल 10,000 रुपये खुद से निवेश करने होंगे। इसके बाद आप मुफ्त बिजली का लाभ उठा सकते हैं। किसानों को इस कार्यक्रम से काफी लाभ हुआ है क्योंकि उन्होंने सिंचाई के लिए नियमित बिजली पर अपनी निर्भरता कम कर दी है और कृषि पर इसका प्रभाव स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा है।

National Pension Scheme

इस तरह करें कमाई

अगर किसी किसान के पास 5 से 6 एकड़ जमीन है तो वह इस सोलर पावर प्लांट को लगाकर कम से कम 15 से 20 लाख यूनिट उत्पादन कर सकता है। आप इसे 3 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से बेचकर 6 लाख रुपये तक कमा सकते हैं। इस बीच इतने बड़े फार्म में सोलर पावर प्लांट शुरू करने पर आपको करीब 2 लाख रुपये का खर्च आएगा। ऐसे में आप स्कीम के जरिए हर साल 40 लाख रुपये कमा सकते हैं। साथ ही सिंचाई पानी और बिजली की समस्या का भी समाधान किया जाएगा।

योजना के लिए आवेदन की प्रक्रिया

पीएम कुसुम योजना के लिए आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके अलावा, आपको अपनी संपत्ति, आधार कार्ड, बैंक विवरण साझा करना होगा। याद रखें कि आपकी जमीन किसी भी सब स्टेशन के 5 किमी के दायरे में होनी चाहिए तब ही आपको इस योजना का लाभ मिलेगा।

  • ऑनलाइन आवेदन जमा करने के बाद, आपको आधार कार्ड, भूमि दस्तावेज जैसे खसरा खतौनी, घोषणा पत्र, बैंक खाता पासबुक आदि सहित आवश्यक दस्तावेज जमा करने होंगे।
  • एक बार आवेदन और सहायक दस्तावेज स्वीकृत हो जाने के बाद, आप पीएम कुसुम योजना के साथ पंजीकृत हो जाएंगे।

महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • रजिस्ट्रेशन की कॉपी
  • ऑथराइजेशन लेटर
  • जमीन की जमाबंदी की कॉपी
  • चार्टर्ड अकाउंटेंट द्वारा जारी नेटवर्थ सर्टिफिकेट (विकासकर्ता के माध्यम से प्रोजेक्ट विकसित करने की स्थिति में)
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता विवरण
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

PM Kusum Yojana की पात्रता

  • आवेदक भारत का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • कुसुम योजना के तहत, आवेदक 0.5 मेगावाट से 2 मेगावाट की क्षमता वाले सौर ऊर्जा संयंत्रों के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • आवेदक अपनी भूमि के अनुपात में या बिजली वितरण कंपनी द्वारा अधिसूचित क्षमता, जो भी कम हो, के अनुपात में 2 मेगावाट क्षमता के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • प्रत्येक मेगावाट के लिए लगभग 2 हेक्टेयर भूमि की आवश्यकता होगी।
  • इस योजना के तहत स्व-स्वामित्व वाली निवेश परियोजनाओं को वित्तीय योग्यता की आवश्यकता नहीं है।

Faq’s

  • प्रश्न: पीएम-कुसुम की शुरुआत कब हुई?

    उत्तर: PM KUSUM Yojana को जुलाई 2019 में भारत सरकार के नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा पेश किया गया था।

  • Que: Who are eligible for PM KUSUM Scheme?

    Ans: The eligible categories for KUSUM Scheme are:
    An individual farmer.
    A group of farmers.
    FPO or Farmer producer organization.
    Panchayat.
    Co-operatives.
    Water User Associations.

Leave a Comment