Haryana Government SchemesState Government Schemes

Haryana Pashudhan Bima Yojana 2022: रजिस्ट्रेशन फॉर्म, पात्रता व लाभ

Haryana Pashudhan Bima Yojana Apply | हरियाणा पशुधन बीमा योजना ऑनलाइन आवेदन | Pashudhan Bima Yojana Application Form | हरियाणा पशुधन बीमा योजना पात्रता, रजिस्ट्रेशन फॉर्म

पशुधन खेती कई नागरिकों के लिए आय का एक स्रोत है। अक्सर ऐसा होता है कि पशुओं की मौत के कारण पशुपालकों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ता है। इसी को ध्यान में रखते हुए हरियाणा सरकार द्वारा हरियाणा पशुधन बीमा योजना शुरू की गई थी। इस योजना के तहत पशुओं को बीमा कवर प्रदान किया जाता है। आज हम इस लेख के माध्यम से आपको इस योजना से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं।

जैसे कि हरियाणा पशुधन बीमा योजना क्या है?, इसके लाभ, उद्देश्य, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि। तो दोस्तों, यदि आप Haryana Pashudhan Bima Yojana 2022 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपसे अनुरोध किया जाएगा कि हमारी ओर से इस लेख को अंत तक पढ़ें।

Haryana Pashudhan Bima Yojana

Haryana Pashudhan Bima Yojana 2022

Haryana Pashudhan Bima Yojana की स्थापना पशुपालन और दुग्ध विभाग, हरियाणा द्वारा की गई थी। यह योजना 29 जुलाई 2016 को शुरू हुई थी। इस योजना के तहत पशुओं का बीमा किया जाता है। यह बीमा गाय, भैंस, बैल, ऊंट, भेड़, बकरी और सूअर को प्रदान किया जाता है। जिसके लिए 25 से 100 का प्रीमियम देना होगा। इस प्रीमियम के भुगतान के बाद, इन सभी जानवरों का 3 साल की अवधि के लिए बीमा किया जाता है। यदि इस 3 वर्ष की अवधि के दौरान पशु की मृत्यु हो जाती है, तो बीमा कंपनी द्वारा पशु की प्रतिपूर्ति की जाएगी। अनुसूचित जाति के नागरिक इस योजना का मुफ्त में उपयोग कर सकते हैं।

हरियाणा पशुधन बीमा योजना 2022 के तहत करीब एक लाख पशुओं को कवर करने का लक्ष्य रखा गया है। यह व्यवस्था पशु मालिकों को पशुओं की मृत्यु के परिणामस्वरूप होने वाले आर्थिक नुकसान से बचाती है।

DMCA.com Protection Status

Haryana Pashudhan Bima Yojana 2022 का उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य पशुओं को बीमा कवर प्रदान करना है। इस व्यवस्था के तहत यदि पशु की मृत्यु हो जाती है तो बीमा कंपनी मुआवजा देगी। यह व्यवस्था पशुपालकों को आर्थिक नुकसान से बचाती है। हरियाणा पशुधन बीमा योजना 2022 की एक विशेष विशेषता यह है कि इस योजना के तहत, एक बार प्रीमियम का भुगतान करने के बाद, बीमा 3 साल की अवधि के लिए कवर किया जाता है। इस योजना से लगभग 1,00,000 पशुओं को कवर किया जाएगा, जिससे पशुपालकों की आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा।

Key Highlights Of Haryana Pashudhan Bima Yojana 2022

योजना का नाम हरियाणा पशुधन बीमा योजना
किस ने लांच की हरियाणा सरकार
लाभार्थी हरियाणा के नागरिक
उद्देश्य पशुओं को बीमा कवर प्रदान करना
साल 2022
आधिकारिक वेबसाइट यहां क्लिक करें

Haryana Pashudhan Bima Yojana किन परिस्थितियों में मिलेगा लाभ?

  • पशु को करंट लगने की स्थिति में
  • नहर में डूबने की स्थिति में
  • बाढ़ के कारण मृत्यु होने की स्थिति में
  • आग लगने की स्थिति में
  • वाहन से टकराने की स्थिति में
  • प्राकृतिक आपदा के कारण
  • बीमारी से मृत्यु होने की स्थिति में
  • किसी भी कारण दुर्घटना की स्थिति में मौत

Haryana Pashudhan Bima Yojana मुआवजा की राशि

भैंस के लिए मुआवजा की राशि 88,000 रुपये
गाय के लिए मुआवजा की राशि 80,000 रुपये
घोड़ा के लिए मुआवजा की राशि 40,000 रुपये
भेड़-बकरी के लिए मुआवजा की राशि 5000 रुपये
सुअर के लिए मुआवजा की राशि 5000 रुपये

Haryana Pashudhan Bima Yojana आंकड़े

जिलों के नाम आंकड़े
अंबाला 8083
भिवानी 25213
चरखीदादरी 13105
फरीदाबाद 11487
फतेहाबाद 15843
गुरुग्राम 7273
हिसार 19236
झज्जर 7698
जींद 14021
कैथल 14294
करनाल 23320
कुरुक्षेत्र 15245
महेंद्रगढ़ 20113
मेवात 22983
पलवल 11863
पंचकूला 4227
पानीपत 10464
रेवाड़ी 12833
रोहतक 10119
सिरसा 32985
सोनीपत 8291
यमुनानगर 20652

हरियाणा पशुधन बीमा योजना प्रीमियम राशि

पशु प्रीमियम राशि
गाय ₹100
भैंस ₹100
बैल ₹100
ऊंट ₹100
भेड़ ₹25
बकरी ₹25
सूअर ₹25

पशुधन बीमा योजना के लाभ तथा विशेषताएं

  • Haryana Pashudhan Bima Yojana 2022 हरियाणा सरकार द्वारा शुरू की गई है।
  • यह योजना 29 जुलाई 2016 को शुरू की गई थी।
  • इस योजना के तहत पशुओं को बीमा कवर प्रदान किया जाता है।
  • यह बीमा गाय, भैंस, बैल, ऊंट, भेड़, बकरी और सुअर को प्रदान किया जाता है।
  • इसके लिए किसानों को प्रीमियम देना होगा।
    प्रीमियम राशि 25 से 100 तक भिन्न होती है।
  • प्रीमियम का भुगतान करने के बाद, 3 साल की अवधि के लिए बीमा प्रदान किया जाता है।
  • यदि इस अवधि के दौरान पशुओं की मृत्यु हो जाती है, तो बीमा कंपनी द्वारा मुआवजा प्रदान किया जाएगा।
  • अनुसूचित जाति के नागरिक इस योजना का मुफ्त में उपयोग कर सकते हैं।
  • हरियाणा पशुधन बीमा योजना में करीब एक लाख पशुओं को जोड़ा जाएगा।
  • यह व्यवस्था पशु की मृत्यु की स्थिति में पशु मालिक को आर्थिक नुकसान से बचाती है।
  • इस व्यवस्था से पशुपालकों की आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा।

Read More:

हरियाणा पशुधन बीमा योजना की पात्रता

  • चरवाहे के लिए हरियाणा का स्थायी निवासी होना अनिवार्य है।
  • इस योजना में केवल गाय, भैंस, बैल, ऊंट, भेड़, बकरी और सूअर जैसे जानवर शामिल हैं।
  • अनुसूचित जाति के नागरिक इस योजना का मुफ्त में उपयोग कर सकते हैं।

हरियाणा पशुधन बीमा योजना में आवेदन करने के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • निवास का प्रमाण
  • आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता विवरण

हरियाणा पशुधन बीमा योजना में आवेदन करने की प्रक्रिया

Haryana Pashudhan Bima Yojana home page

  • अब आपके लिए होम पेज खुलेगा।
  • होमपेज पर आपको हरियाणा पशुधन बीमा योजना के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके लिए एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपको डाउनलोड रिक्वेस्ट फॉर्म के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके लिए पीडीएफ फॉर्मेट में आवेदन फॉर्म खुल जाएगा।
  • आपको इस आवेदन पत्र को डाउनलोड और प्रिंट करना होगा।
  • अब आपको आवेदन पत्र में मांगी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे अपना नाम, मोबाइल नंबर, पता आदि दर्ज करना होगा।
  • उसके बाद, आपको आवेदन पत्र से सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज संलग्न करने होंगे।
  • अब आपको इस आवेदन पत्र को संबंधित विभाग में जमा करना होगा।
  • ऐसे आप हरियाणा पशुधन बीमा योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं।

फीडबैक देने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Haryana Pashudhan Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके लिए होम पेज खुलेगा।
  • होम पेज पर आपको फीडबैक लिंक पर क्लिक करना होगा।

Haryana Pashudhan Bima Yojana feedback

  • इसके बाद आपके लिए एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपको अपना नाम, ईमेल पता, विषय आदि दर्ज करना होगा।
  • अब आपको सेंड बटन पर क्लिक करना है।
  • इस तरह आप फीडबैक दे सकते हैं।

Contact Information

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button